सोमवार, 28 जनवरी 2013

मेरा लक्ष्य





                           इसी से अपने  लक्ष्य को पता  नहीं हूँ,
                           मैं सच कहने से कभी घबड़ाता नही हूँ।
                                         मेरी आदत में ही है सुमार सच व्यानी,
                                         खुशामद  के गीत  गा पाता  नही  हूँ।
                           जो  देते हैं  दूसरों के आँखों में  आँसू,
                           उनके पर कतरने में कतराता नही हूँ।
                                         देवता वर्ग के लोग हो गये है आसुरी 
                                         उनके चरण-स्पर्श को मैं जाता नही हूँ।
                           जितने उजले कपड़े उतने ही मीठे बोल,
                           उन कपट रूपी झांसे में मैं आता नहीं हूँ।
                                         खुद सीढ़ी दर  सीढ़ी चढ़ते  जायेंगे,
                                         उन बदशक्ल  डंडो पर जाता नही हूँ।
                          मेरी खातिर तो मसीहा तो नही मिलने वाला,
                          इसी से अपने लक्ष्य ........... को पता नहीं हूँ।



चलते चलते एक कतरा  याद  आ गया ...........
                                      "बन्दूक का खेल खेलने वाले ,
                                                   बन्दूक से ही जान  गवाते हैं।
                                                             पड़ोस  के घर में आग लगाने वाले,
                                                                       अपना घर भी बचा नहीं  पाते  हैं।

शुक्रवार, 25 जनवरी 2013

गणतंत्र दिवस







सत्य अहिंसा का पाठ पढाता,
हर्षोल्लास भरा गणतंत्र दिवस है।
जागो मेरे भारत के सपूतो,
सोये देश को नई पहचान बनाना है।
नफरत,बुराई बैर मिटा के,
विश्व में भारत को उठाना है।
कुटिल,दुराचारियों एव पापियों का, 
कर अंत फिर राम राज्य बनाना है।
भूल चुके जो अपनी संस्कृति को,
उनको सही  राह दिखाना है।
जाति मजहब का भेद भुलाकर,
सबको गले लगाना है।
उन्नति के पथ पर देश हमारा,
फिर से सोने  की चिड़ियाँ बनाना है।









 (सभी चित्र Google से साभार)

बुधवार, 23 जनवरी 2013

बीते हुए पल





 
              बीते हुए पल को याद कर रोना अच्छा लगता है,
              हम भी यादों में पागल हो जायेंगे ऐसा लगता है। 
                         हसीन पलों  की  यादें  रोज ही मिलने  आती है,
                         अँधेरे दिलो में अब तो ख्वाबो का मेला लगता है।
              प्यार के  दो ... मीठे बोल के तरसते हुए दिल को,
              अपने आँसूं के बूंदे ... ही अब समन्दर लगता है।
                         किसको अपना कहूँ कौन इस दुनियाँ में पराया,
                         गम-ए-सार दिल में तो अभी एक चेहरा अपना है।
              कभी कभी तेरी यादों के सावली रातों ......... में,
              बहते अश्को का ही समन्दर ..... नजर आता है।
                          "राज" दुनियाँ  में  चुप ही  रहे तो  बेहतर है,
                           राई से पहाड़ बनाना तो लोगो की फितरत है।
              गुल-ए-चमन में जाग  कर रात-रात भर .........,
              बीते हुए पल को याद कर रोना अच्छा लगता है।

 

मंगलवार, 22 जनवरी 2013

सुख-दुःख




                   


                            जीवन मृत्यु तो एक परम सत्य, 
                            फिर क्यों मृत्यु से भय खाते हो।
                            हर पल सुख के सागर में डूबे,
                            अब दुःख में क्यों घबडाते हो।
                            सुख-दुःख तो चलते चक्र से,
                            एक जाता एक आता है।
                            दुःख जायेगा सुख आएगा,
                            अब क्यों मातम मनाते हो।
                            जीवन भर किया मनमानी,
                           उम्र गुजार दी रंगरेलियों  में।
                           सुख के क्षणों में भूल गये दाता को,
                           अब क्यों त्राहि माम की गान सुनते हो।
                           सुख तो चार दिन की चाँदनी,
                           फिर अँधेरों  से क्यों घबराते हो।
                           हे मानस के "राज"हँस,
                           सुख-दुःख की चिंता छोड़ो,
                           इह लोक में करो पूण्य-कर्म ,
                           परलोक तो सुधर जायेगा।
                           जीवन-मृत्यु तो एक परम सत्य,
                           एक दिन सबको चले जाना है।
  

सोमवार, 21 जनवरी 2013

हाइकू



1
पहले रेल, 
अब हुआ है तेल, 
यहीं है खेल, 
2
बढती महंगाई, 
रिश्वतखोरी और, 
भ्रष्टाचार , 
3
लूट खसोट,
बलात्कार और, 
बढे हत्यारे ,
4
बढती गरीबी, 
परेशान है जिन्दगी, 
बेखबर सरकार, 
5
नफरत का बाजार, 
बढ़ रही है दूरियाँ, 
घटता विश्वास,
 


                        हाइकू  पहली बार लिखा, क्रम कैसा होना चाहिए इस पर मार्गदर्शन करें।

शुक्रवार, 18 जनवरी 2013

धागा प्रेम का






                         रोक रही हूँ छलकते आंसुओं को 
                         जब मिलोगे करूँगी अर्पित तुझे ही 
                         आंसुओं  का अर्घ्य शीतल हेम सा 
                         मुंह  फेर रुखसत हो गये 
                         मुड़कर  अश्कों  भरी नयनो को देखा ही नहीं  
                         रहे  हमेशा वफा में पावँ लिपटे हुए 
                         बीते सौ कहानियों में से क्या कहूँ 
                         साथ नही है कोई आंसुओं  के तिजारत में 
                         जब भी मिलोगे 
                         आँखों में आँसू लबो को हँसता  पाओगे 
                         आँसू  भरे दामन से मुंह   ढाँप रहें 
                         कर रहें हैं आपका इंतजार 
                         याद रखना वस  यहीं 
                         सबंध अपना जोड़ता है 
                         वज्र  से गुरु,फूलों से मृदु एक धागा प्रेम का।

                                     (चित्र Google से साभार)                      

बुधवार, 16 जनवरी 2013

दुष्प्रवृतियाँ




       तुम कब आओगे प्यारे,
       आज फिर पापियों का है डेरा,
       लूट-पाट बलात्कार का हुआ बाजार गर्म 
       समाज में छाया है अँधियारा 
       मानवता पर दानवता है भारी 
       चारो ओर फैली दुष्प्रवृतियाँ
       होड़ लगी है एक दूसरे को कुचलने की 
       पाप पतन का बढ़ता बोलबाल 
       हर तरफ फैले हैं दुःशासन 
       हैं तत्पर नोचने को बेटियों के दामन 
       अंतहीन है इनकी सीमाएं 
       उनमे से कुछ रहते साथ हमारे 
       जब मिलेगा मौका 
       नोच लेगे पंख हमारे 
       दिन पर दिन हो रहे हालात बदतर
       हर तरफ है फैला दुराचारियो राज 
       इस हैवानियत की दुनियाँ में 
       तुम आओगे प्यारे।
                                                                           

मंगलवार, 15 जनवरी 2013

हकीकत




        मेरे दिल के समन्दर में कभी उतर कर देखा होता,
        कभी  प्यार के  दो  बोल  बोलकर ही देखा.....होता.
                                 मेरी वफाओं को मेरी नजर से देखा ही नही,
                                 तुम कभी मुझ से दूर जाकर ही सोचा होता.
        इश्क व मोहब्बत का सागर है ...अथाह,
        कभी तुम इसमें उतर क़र ही देखा होता.
                                 प्यार का मतलब जानने से कुछ पहले,
                                 मेरे साथ दो कदम चल के ही देखा होता.
        मेरे गम को अब तुम क्या महसूस  करोगे,
        मेरे दिल की बगिया में आ क़र ही देखा होता.
                                क्या पता था हम सिर्फ मजाक ही है उनके लिए,
                                मीठी जुबा से हकीकत ही बयाँ क़र दिया.. होता.

           

                                           

रविवार, 13 जनवरी 2013

महा कुंभ मेला-2013




शाही स्नान के साथ ही हमारी कर्मस्थली तीर्थराज प्रयाग (इलाहबाद) मेंगंगा,यमुना और अदृश्य सरस्वती नदियों के संगम पर महाकुंभ शुरू होगया।कुंभ मेल हमारा एक महत्वपूर्ण त्यौहार है,इसमें करोड़ो श्रद्धालु पवित्र जल में स्नान करते है। ऐसी मान्यता है कि कुंभ के पवित्र जल में स्नान से सभी पाप-ताप धुल जाते है और मोक्ष की प्राप्ति होती है।भारत के चार स्थानों पर,हरिद्वार,प्रयाग,उज्जैन और नासिक में प्रति बारहवें बर्ष इअ मेले का आयोजन होता है।हरिद्वार और प्रयाग में दो कुंभ पर्वो के बीच  छह बर्ष के अन्तराल पर एक अर्धकुंभ का भी आयोजन किया जाता है।चारो पूर्ण कुंभ पूरा होने के बाद 144 बर्षो के बाद एक महाकुंभ का आयोजन होता है,जो तीर्थराज प्रयाग में ही संपन्न होता है।आज वही  महाकुंभ का आयोजन हुआ है जो 10 मार्च  तक चलेगा।
                      कुंभ मेलों के पीछे एक पौराणिक कथा भी मान्य है की जब समुद्र मंथन के पश्चात अमृत कलश की प्राप्ति हुई तब इस पर अधिकार जमाने को लेकर देवताओं और असूरों के बीच युद्ध हुआ,इसी  क्रम में अमृत की कुछ बूंदे भारत के चार स्थानों पर गिरे।इन अमृत बूंदों के कारण ही इन चारो स्थानों में पवित्र एव रहस्यमयी शक्ति का संचार हुआ और तब से ही लगातार कुंभ मेले का आयोजन होता आ रहा है।
                        देश के सबसे बड़े धार्मिक मेले में देश-बिदेश से करोड़ो लोग आ रहे है और संगम तट पर डुबकी लगा रहे है।प्राप्त सूत्रों के अनुसार सुबह में सर्वप्रथम महानिर्वाणी अखाड़े के संतो ने स्नान किया।संगम स्थली पर कई महासंतो  का आगमन हुआ है जैसे की चंद्रास्वामी जी,आसाराम बापू , श्री श्री रविशंकर जी,सुधान्सु महाराज,सतपाल महाराज,योगी आदित्यनाथ,स्वामी विमलदेव जी।ये सभी संत संगम मेले में धर्मिक प्रवचन देंगे।
           आज मेरा यह दुर्भाग्य ही है की ऐसा पावन मेला  हमारी हमारी जन्मस्थली पर आयोजन हुआ और मैं  यहाँ परदेश में हूँ,खैर फिर कभी।



          "आप सब को लोहड़ी और मकर संक्राति की हार्दिक शुभकामनाएँ।"
                                                                                           

 संगम स्नान के कुछ चित्र (गूगल से साभार )






शनिवार, 12 जनवरी 2013

सपने प्यार के


आँखों में शोले लिए मैं कहाँ से कहाँ आ निकला,
जो घर जला कर आया वह तो  अपना निकला।
             लोगो ने पागल करार दिया फेके पत्थर मुझपर,
             जब मैं लोगो के घर के बराबर से .......  निकला ,
जहाँ  था फूलों उपवन परिंदे  करते थे गुलजार,
वहीं मौत की वीरानियाँ  लिए श्मशान निकला।
             जिन आँखों में दिखता था कभी सपने प्यार के,
             उन्ही पलको में आँसू ....  का समन्दर निकला।
जिन हाथो के पकड़ सोचा कर लेगे दुनियाँ फतह,
पीछे मुडकर देखा उन्ही  हाथो में खंजर निकला।
             साथ क्यों छोड़ जाते है कुछ कदम चलने के बाद,
             संजोये ... ख्वाब टूट गये जब सामने से निकला।
तुम अगर कभी समझ पाओ तो मुझे भी समझाना,
देवो का नकाब लगाये कातिलो का लश्कर निकला।


गुरुवार, 10 जनवरी 2013

गुफ्तगु

आज का दिन  बड़ा ही  सुहाना  है, सोचा कुछ  शेर-औ-शायरी  ही हो जाय,सो पेश है चंद कतरे ............. 



               गुलशन में मंदपवन को तलाश तेरी है,
               बुलबुल की जुबां पर गुफ्तगु ....तेरी है।
               हर रंग में जलवा है तेरी कुदरत का ,
               जिस फूल को सूँघता हूँ खुशबु तेरी है।
     

                     इस रास्ते के नाम लिखो एक शाम और,
              या इसमें रौशनी का करो इतजाम  और।
              आंधी में सिर्फ हम ही उखड़ कर नही गिरे,
              हमसे जुड़ा  हुआ था कोई नाम ..... और।
                                                

मंगलवार, 8 जनवरी 2013

हैवानियत

जैसा की आप सब को मालूम ही हो गया होगा की कल पाकिस्तान ने आपस में हुए युद्धबिराम को उल्लंघन करते हुए जम्मू कश्मीर के पूंछ में हमारे दो जवानों की हत्या कर  दी।बर्बरता की इन्तहा पार करते हुए हमारे देशभक्त जवानों के मृत शरीर को बुरी तरह से क्षतिग्रस्त किये और उनके सिर को भी काट कर  ले गये,अपने देश को सरप्राइज देने के लिए।हम हमारी सरकार हमेशा दोस्ती की दम्भ भरते है,सदभावना की बाते करते है।भारत पाक के बीच कथित दोस्ती की क्रिकेट सीरीज खत्म हुए 48 घंटे के अंदर ही पाक ने दोस्ती के उपहार स्वरूप ऐसा कारनामे को अंजाम दिया।हमारी सरकार है संशय में है की इस घटना पर क्या रिएक्ट करें,शायद सोच रही है तमाम घटनाओं की तरह इस बार भी हम और हमारी मीडिया कुछ दिनों हो-हल्ला मचायेगी फिर सब कुछ शान्त।फिर हमारे देश के कर्णधार शांति सौहार्द बनाये रखने के लिए वहाँ का सरकारी खर्च पर दौरे करेंगे अपनी क्रिकेट टीम को शांति बनाने के लिए पाकिस्तान भेजेंगे।अभी भी वक्त है जागो देश के "कर्णधारो"।
                                         चले इसी सन्दर्भ में हम राम प्रसाद बिस्मिल को याद करते है।


    है लिये हथियार दुश्मन ताक मे बैठा उधर
    और हम तैयार  हैं सीना लिये अपना इधर
    खून से खेलेंगे होली गर वतन मुश्किल में है
    सरफरोशी की तमन्ना अब हमारे दिल में है

                       हाथ जिनमें हो जुनून कटते नही तलवार से
                       सर जो उठ जाते हैं वो झुकते नहीं ललकार से
                       और भडकेगा जो शोला सा हमारे दिल में है
                       सरफरोशी की तमन्ना अब हमारे दिल में है

     हम तो घर से निकले ही थे बांधकर सर पे कफ़न
     जान हथेली में लिये लो बढ चले हैं ये कदम
     जिंदगी तो अपनी मेहमान मौत की महफ़िल मैं है
     सरफरोशी की तमन्ना अब हमारे दिल में है

                      दिल मे तूफानों की टोली और नसों में इन्कलाब
                      होश दुश्मन के उडा देंगे हमे रोको न आज
                      दूर रह पाये जो हमसे दम कहाँ मंजिल मे है
                      सरफरोशी की तमन्ना अब हमारे दिल में है


 "उन शहीद जवानों को श्रधांजली"


रविवार, 6 जनवरी 2013

परायी स्त्री




यहाँ पति का घर, वहाँ पिता का घर,
उधर शायद पुत्र का घर,
पिता घर परायी पराये घर जाना है,
पति के घर परायी पराये घर से आयी है,
पुत्र के घर परायी .........शायद पुरानी है,
ऐसा जगह कहाँ  जहाँ वो परायी नही ?
क्या परायी स्त्री हमेशा परायी रहेगी,
परायी स्त्री ही हमारी माँ,बहन और बेटी है,
बेटी को परायी कहना क्या तुम्हे स्वीकार है,
परायी बेटी के  क्या है नसीब में,
क्या वह परायी ही रहेगी।

बुधवार, 2 जनवरी 2013

बेनकाब चेहरे



चहरे बेनकाब  हो गए पहचान की जरुरत नहीं,

आदमी बेईमान हो गए नमन की जरुरत नहीं।


अपने ही  नाखुनो   से नोच डाला चेहरा अपना,
चेहरे  पर औरो   के नाखुनो  की जरुरत  नहीं।

खुद  के बोए   काँटे  जब चुभने ....लगे हो  तब ,
उठती टीसों को किसी क्रंदन की जरुरत  नहीं।

तत्पर है लूटने के लिए आदमी आदमी को यहाँ,
घरो  में अब  किसी दरवान    की जरुरत  नहीं।

टूटती सांसो की डोरी से लटक  रही है जिन्दगी,
"राज"  को किसी  स्पंदन  की  जरुरत   नहीं।








तुम्हारी यादें


तुम्हारी यादो को सीने में लगा कर रखा है,
जैसे मूरत को मंदिर में सजा कर रखा ही।

मैंने माना की बहुत दूर हो मुझसे लेकिन,
ते री सूरत को आईने में छुपा रखा है।

इश्क के दर्द को नजदीक से देखा ही नहीं,
सैकड़ो जख्म को साइन में दबा रखा है।

अपनी रुसवाई में थे दोनों बराबर के शरीक,
क्यों इल्जाम मेरे नाम लिखा रखा है।

बुझ गए शहर के दीये ऐ " राज "
मैंने उस शमा को वज्म में जला रखा है।

मंगलवार, 1 जनवरी 2013

नवबर्ष की हार्दिक शुभकामनायें







          करते हैं तन  मन  दिल से  अभिनन्दन  आपका,
          रब करे सबके सपने पूरें  हों झोली भर दे आपके।

                   बीत  गया यह साल सारे गिले शिकवे भूल  जाएँ,
                   नवबर्ष का करें स्वागत दुश्मन को भी गले लगायें।

                            जीवन रहे सदा खुशहाल लेकर आये ढेरों खुशियाँ,
                            आपकी भी कुछ दुआ चाहिए बाट लेंगे हर खुशियाँ।

                                     सोचा  है जो आपने पूरें  हों  सब अरमान  आपके,
                                      चाँद  सितारों  भरा  जीवन मुबारक हो   आपका।





Images for facebook friends
Send Scraps Facebook
Facebook sendscraps
Send Scraps for all
 
                                                                  Happy New Year 2013
                                              

You might also like :

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...